Friday, September 30, 2022
HomeTrending NewsSwami Swaroopanand Saraswati Died: जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद हुए ब्रह्मलीन, 99 साल...

Swami Swaroopanand Saraswati Died: जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद हुए ब्रह्मलीन, 99 साल उम्र

Shankaracharya Swami Swaroopanand Saraswati Maharaj became Brahmalin, renounced body at the age of 99

Shankaracharya स्वरूपानंद सरस्वती का जन्म 2 सितंबर, 1924 को मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के दिघोरी गांव में पोथीराम उपाध्याय के घर हुआ था। Swami Swaroopanand ज्योतिर मठ (1941-1953) के शंकराचार्य ब्रह्मानंद सरस्वती के प्रत्यक्ष शिष्य थे। स्वामी स्वरूपानंद स्वामी करपात्री द्वारा स्थापित अखिल भारतीय राम राज्य परिषद के अध्यक्ष बने। 1973 में स्वामी कृष्णबोध आश्रम के निधन पर ज्योतिर मठ, बद्रीनाथ के शंकराचार्य की उपाधि स्वामी स्वरूपानंद को प्राप्त हुई। बाद में वे 1982 में द्वारका पीठ के शंकराचार्य भी बने।

19 वर्ष की आयु में वे 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में एक स्वतंत्रता सेनानी बन गए, और उन्हें “क्रांतिकारी साधु” के रूप में जाना जाता था। इसके लिए उन्हें जेल पंद्रह महीने की जेल की सजा भी हुई हुई।

Swami Swaroopanand – स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का 11 सितंबर 2022 को 98 वर्ष की आयु में नरसिंहपुर में निधन हो गया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, और अन्य ने Twitter के जरिये अपनी संवेदना व्यक्त की।

जनवरी 2015 में स्वामी स्वरूपानंद ने फिल्म ‘PK’ के बारे में सेंसर बोर्ड के साथ सवाल उठाए, सीबीआई से जांच की मांग की थी।

जुलाई 2014 में स्वामी स्वरूपानंद ने शिरडी साईं बाबा और उनके अनुयायियों के खिलाफ अपनी टिप्पणी के कारण विवाद पैदा कर दिया था। स्वरूपानंद ने लिखा, “शास्त्रों और वेदों में साईं बाबा का कोई उल्लेख नहीं है”, इसलिए उन्हें “हिंदू देवताओं के साथ पूजा नहीं करनी चाहिए। वह भगवान नहीं थे, वे सिर्फ एक मुस्लिम फकीर थे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments