Friday, September 30, 2022
HomeTrending NewsPM Modi ने Central Vista, Netaji Statue, Kartavya Path का उद्घाटन किया

PM Modi ने Central Vista, Netaji Statue, Kartavya Path का उद्घाटन किया

PM Modi ने Central Vista, Netaji Statue, Kartavya Path का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Subhash Chandra Bose) की प्रतिमा का अनावरण और Central Vista Avenue सेंट्रल विस्ता एवेन्यू, Kartavya Path कर्तव्य पथ का उद्घाटन कर इसे ऐतिहासिक स्थल पर नए युग का सूत्रपात बताया है राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्य पथ किया गया है उसे शुक्रवार को आम लोगों के लिए खोल दिया गया है नेताजी की प्रतिमा का अनावरण आजाद हिंद फौज की गति कदम कदम बढ़ाए जा ओ दिल धुन के साथ हुआ एक देश भारत और अनेकता में एकता की भावनाओं को प्रदर्शित करने के लिए देश के कोने-कोने से आर्टिस्ट के साथ सांस्कृतिक उत्सव जैसा माहौल रख गया।

इस दौरान प्रधान मंत्री मोदी (PM Modi) ने कहा कि आज राजपथ का अस्तित्व समाप्त होकर कर्तव्य पथ बना है अगर जॉर्ज पंचम की मूर्ति के निशान को हटाकर नेता जी की मूर्ति लगी है तो यह गुलामी की मानसिकता के परित्याग का पहला उदाहरण नहीं है कहना शुरुआत है यह ना अंत है यह मन वह मानस के लक्ष्य हासिल करने का निरंतर चलने वाला संकल्प यात्रा है। इंडिया गेट पर 9, 10, 11 सितंबर को रात 8:00 बजे नेता जी के जीवन पर 10 मिनट का विशेष ड्रोन शो प्रस्तुत किया जाएगा यह जनता के लिए फ्री होगा।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनिता बोस ने प्रतिमा के अनावरण के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को आभार व्यक्त किया अर्थशास्त्री बॉस अपने जर्मनी से जारी बयान में कहा जानकर खुशी हो रही है।

क्या है Kartavya Path

Kartavya Path राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक का मार्ग है कर्तव्य पथ के दोनों तरफ के क्षेत्र को सेंट्रल विस्टा उसका कहा जाता है इस क्षेत्र में राष्ट्रपति भवन, नॉर्थ ब्लॉक, साउथ ब्लॉक, रेल भवन, संसद भवन, कृषि भवन, निर्माण भवन, उद्योग भवन, आरक्षाान भवन, राष्ट्रीय संग्रहालय, राष्ट्रीय अभिलेखागार, बीकानेर हाउस, हैदराबाद हाउस समेत कई सरकारी इमारतें हैं इस मार्ग पर राज्यों के खाद्य वस्तुओं के स्टाल नई सुविधा वाले ब्लॉक और बिक्री स्टाल होंगे।

Central Vista सेंट्रल विस्टा में बाहरी और आंतरिक परत बनाने के लिए राजस्थान के धौलपुर जिले से सरमथुरा से बलुआ पत्थर लाया गया था जबकि जैसलमेर के लाखों गांवों से ग्रेनाइट पत्थर का उपयोग किया गया इन पत्रों को विदेश के विशेष कार्यक्रमों ने तराश कर और सुंदर काट दिया इस बजट के लिए लकड़ी नागपुर से मंगाई इन लकड़ियों को तराशने का काम महाराष्ट्र कारीगर व शिल्पी कारों ने किया उत्तर प्रदेश की कॉर्पोरेट सिटी के नाम पर मशहूर भदोही के हाथ से बुने कालीन लगाए गए हैं।

  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा 280 मीट्रिक टन वजन वाले विशाल ग्रेनाइट पत्थर पर उकेरी गई है प्रतिमा का वजन 65 मेट्रिक टन है।
  • ग्रेनाइट के अखंड पत्थर को तेलंगाना के खम्मम से 1665 किलोमीटर दूर नई दिल्ली तक लाने के लिए 100 फीट लंबा 140 पहियों वाला ट्रक विशेष तौर पर तैयार किया गया था।
  • पत्थर से निर्मित 28 फीट ऊंची प्रतिमा इंडिया गेट के पास एक छतरी के नीचे स्थापित की गई है।
  • पराक्रम दिवस 23 जनवरी पर मोदी ने सुभाष चंद्र बोसे जी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया था।
  • प्रतिमा अरुण योगीराज के नेतृत्व में मूर्ति कारों के दल ने 26000 घंटे के प्रयासों से तैयार की है।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments