Coronavirus क्या है? क्या इसके लक्षण है और अगर कोरोना हो जाए तो क्या करना चाहिए

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इस ब्लॉग पोस्ट में आज कोरोना महामारी (Covid-19 pandemic) क्या है, इसके Symptoms क्या है अगर आपको कोरोना हो जाये तो क्या करना चाहिए। कोरोना के ने वैरिएंट (variant) क्यों से है।

Coronavirus क्या है? हिंदी में

आज लगभग कोरोनावायरस को लगभग एक साल से भी ज्यादा हो गया पर आज भी कोरोना (Covid-19) पूरी दुनिया में तबाही मचा है , भारत, अमेरिका, ब्राज़ील, इंग्लैंड जैसे देश भी इस महामारी से उबार नहीं पाए है इतना ही नहीं कोरोना (Second Wave of Covid-19) इस दूसरी लहर ने तो और भी ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है

कोरोना की इस दूसरी लहर से भारत जैसे घनी आबादी वाले देश एक बड़ी समस्या है, और साथ लोगो की कोरोना वायरस के प्रति ढीलेपन जैसे रवैये से यह महामारी (pandemic)आज फिर से एक विकराल रूप ले रहा है।

रहत की बात है की भारत ने समय रहते इस पर काबू पाने के लिए कई तरह के covid – vaccine को मंजूरी दे दी है और दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान भी कोरोना का भारत में है पर 1.5 करोड़ अरब वाले जनसँख्या वाले देश में पूरी ततः से जल्द हार आयु वर्ग को वैक्सीन मुहया करना एक बड़ी चुनती है।

कोरोना चीन के Wuhan शहर के पोल्ट्री बाजार से निकला एक वायरस जो पूरी दुनिया में फैला, इस महामारी कोरोना वायरस के लक्षण एक मामूली ज़ुखाम से शुरवात होकर गंभीर फेफड़ो के रोग में प्रवर्तित होकर और यदि पहले से किसी को कोई गंभीर रोग हो यह बीमारी आसानी से पकड़ लेती है।

COVID-19 SARS-CoV-2 के कारण होने वाली बीमारी है जो ट्रिगर कर सकती है यह आपके ऊपरी श्वसन पथ (साइनस, नाक और गले) या निचले श्वसन पथ (विंडपाइप और फेफड़े) को प्रभावित कर सकता है। जैसे कि मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (Middle East Respiratory Syndrome: MERS-CoV) और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (Severe Acute Respiratory Syndrome: SARS-CoV) | कोरोना वायरस को “SARS-CoV-2” का नाम रखा गया है और ” जिसका नाम “COVID-19” है।

कोरोना वायरस के लक्षण क्या है।

इस ब्लॉग पोस्ट में आज कोरोना महामारी (Covid-19 pandemic) क्या है, इसके Symptoms क्या है अगर आपको कोरोना हो जाये तो क्या करना चाहिए। कोरोना के ने वैरिएंट (variant)  क्यों से है।

COVID-19 अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरीके से प्रभावित करता है। अधिकांश संक्रमित लोग हल्के से मध्यम बीमारी का विकास करेंगे और अस्पताल में भर्ती हुए बिना भी ठीक हो जाते है

सबसे आम लक्षण: Common Symptoms of Covid-19

बुखार- Fever
सूखी खाँसी – Dry Cough
थकान – Tiredness

कम सामान्य लक्षण: Less Common Symptoms

दर्द एवं पीड़ा Pain & Fever
गले में खराश -Coughing
दस्त – diarrhoea
आँख आना – conjunctivitis
सरदर्द – Headache
स्वाद या गंध का नुकसान – loss of smell and taste
त्वचा पर एक दाने, या उंगलियों या पैर की उंगलियों को काटना – a rash on skin, or discoloration of fingers or toes


गंभीर लक्षण – Serious Symptoms

सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ।
सीने में दर्द या दबाव।
भाषण या आंदोलन का नुकसान।

अगर आपको लगता है कि आप को Corona हुआ तो क्या करें? और अगर कोरोना हो जाए तो क्या करना चाहिए

पहला – सबसे पहले आप अपने घर में रहे और अपने आप को isolate करके रखे जिससे किसी और को संक्रमण न हो। आप ने self-quarantine का शब्द सुना होगा (जिसमे अपने घर के दूसरे लोगों से अलग कमरे में रहने की कोशिश करें। यदि आप कर सकते हैं तो एक अलग बाथरूम का उपयोग करें)

दूसरा – डॉक्टर से संपर्क करे अपने नजदीक की डॉक्टर या अस्पताल प्राइवेट या सरकारी से चिकित्सा सलाह ले, डॉक्टर के परामर्श से आप तुरंत इलाज को प्रारम्भ करे और डॉक्टर के कहने पर तुरंत Covid-19 का टेस्ट कराये।

तीसरा – अगर आप की कोविद-19 की पुस्टि हो जाती है तो डॉक्टर के कहने के अनुसार इलाज ले और निरंतर डॉक्टर और सरकारी हेल्थ वर्कर्स के संपर्क में रहे। स्थिति बिगड़ने पर जो लोग home आइसोलेशन में रहते है तुरंत अस्पताल में जाये।

थोड़ी सी देरी करने इस महामारी के गंभीर परिणाम हो सकते है।

Corona symptoms day by day in Hindi

कोरोना वायरस के लक्षण औसतन दिखने में ५-६ दिन लगता है जब किसी को लक्षण दिखाने के लिए वायरस से संक्रमित होता है, हालांकि इसमें 14 दिन तक भी लग सकते हैं।

Source WHO
Variants of the Virus that Causes COVID-19 – ​ वैरिएंट्स ऑफ़ कोरोना वायरस

कोरोना वायरस एक वायरस का एक परिवार जो कई प्रकार के वायरस से बना है।

कोरोना के अभी कुल 5 वैरिएंट (coronavirus variant) की अमेरिका में खोज हुई है।

  1. B.1.1.7: इस वैरिएंट की पहचान पहली बार दिसंबर 2020 में अमेरिका में हुई थी। शुरुआत में इसका पता यूके में चला था।
  2. B.1.351: इस कोरोना वैरिएंट की पहचान पहली बार अमेरिका में जनवरी 2021 के अंत में हुई थी। इसकी शुरुआत दिसंबर 2020 में दक्षिण अफ्रीका में हुई थी।
  3. P.1: इस वैरिएंट को पहली बार जनवरी 2021 में अमेरिका में पाया गया था। P.1 को शुरुआती तौर पर ब्राजील के यात्रियों में पहचाना गया था, जिन्हें जनवरी की शुरुआत में जापान के एक हवाई अड्डे पर रूटीन स्क्रीनिंग के दौरान परीक्षण किया गया था।
  4. B.1.427 और B.1.429: इन दोनों वेरिएंट को पहली बार फरवरी 2021 में कैलिफोर्निया में पहचाना गया था और मार्च 2021 में VOC के रूप में वर्गीकृत किया गया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *